अमेरिका के सैन्य आधुनिक उपकरणों पर अब तालिबान का कब्जा

आधुनिक सैन्य मशीनों ने तालिबान की ताकत को कई गुना बढ़ा दिया

आधुनिक सैन्य मशीनों ने तालिबान की ताकत को कई गुना बढ़ा दिया

आधुनिक सैन्य मशीनों ने तालिबान की ताकत को कई गुना बढ़ा दिया
आधुनिक सैन्य मशीनों ने तालिबान की ताकत को कई गुना बढ़ा दिया

विमानों के साथ यह शक्तिशाली उपकरण भी अब तालिबान के हाथ में

अफगानिस्तान में अमेरिकी सैनिकों की ऐसी वापिसी हुई, जिससे तालिबान के हाथ बेहतरीन हथियारों का खजाना लग चुका है। अब तालिबान पहले से भी ताकतवर हो गया है। इन नई टेक्नोलाॅजी के हथियारों के साथ तलिबान अब रात के अंधेरे में भी लड़ने में सक्षम है। 

इस तरह के उपकरण लगे अफगानिस्तान के हाथ

मिली जानकारी के अनुसार अमेरिका अफगानिस्तान के पास 8 लाख से भी ज्यादा अत्याधुनकि उपकरण हैं। इस सैन्य उपकरणों में एम-16 रायफल, 82 एमएम मोर्टार लांचर और एम-4 कार्बाइन जैसे हथियार शामिल हैं। वहीं दूसरी ओर नाइट विजन, ब्लैक हाक हेलिकाप्टर, ए29 लड़ाकू विमान और सैन्य वाहन तक इन के हाथ लग गए हैं। 

इसके अलावा तालिबान के लड़ाके अब हमले के दौरान मोर्टार, ग्रेनेड,  6 लाख अमेरिकी रायफल, एके47 ड्रैगुनोव स्नाइपर और एम-4 कार्बाइन का उपयोग करने से पीछे नहीं हटेंगे। इन आधुनिक मशीनों तालिबान की ताकत को कई गुना बढ़ा दिया है। 

वहीं नाइट विजन डिवाइस की बात की जाए तो इस समय तालिबान के पास 16035 नाइट विजन मौजूद है। जिससे वह अब रात के समय भी लड़ाई में पूरी टक्कर देते दिखाई देंगे। 22 ग्राउंड बेस्ड सर्विलांस, 120 रेडियो मॉनिटरिंग सिस्टम और 8 चालक रहित विमान व 6 सर्विलांस बैलून भी तालिबान के पास हैं। 


ए-29, 60 ट्रांसपोर्ट एयरप्लेन, सी-208, सी-130 और 11 हेलिकाप्टर इस समय तालिबान के हाथ हैं। ऐसे विमानों पर तालिबान ने इस समय कब्जा कर रखा है। जो बाइडन की सरकार इस बात को दबाने की पूरी कोशिश कर रही है। जिससे ऐसा साफ दिखाई दे रहा है कि हथियार अफगानिस्तान ने खरीदे हुए है। लोगों यह मानना है कि जो इस दो महत्वपूर्ण रिपोट्स को सरकारी वेबसाइट्स से हटाया गया है, यह इस बात का सबूत है कि इसमें जो बाइडन के प्रशासन का भी पूरा हाथ है। जो ब्लैकहाक हेलिकाप्टर विमान इस समय तालिबान के कब्जे में है। उसकी कीमत करीब 250 करोड़ के पास है।