पाकिस्तान के बाद तुर्की की बारी, वित्तीय कार्रवाई कार्यदल ने तुर्की को ग्रे लिस्ट में डाला

ग्रे लिस्ट में पाकिस्तान पहले से ही शामिल

ग्रे लिस्ट में पाकिस्तान पहले से ही शामिल

ग्रे लिस्ट में पाकिस्तान पहले से ही शामिल
ग्रे लिस्ट में पाकिस्तान पहले से ही शामिल

वित्तीय कार्रवाई कार्यदल ने गुरुवार को तुर्की को अपने ग्रे लिस्ट में डाल दिया है, तुर्की पर मनी लॉन्डरिंग और आतंकवाद को वित्तीय मदद देने का गंभीर आरोप लगा है जिसके बाद FATF ने यह बड़ी कार्रवाई की। इस ग्रे लिस्ट में पाकिस्तान पहले से ही शामिल है,साल 2018 में वित्तीय कार्रवाई कार्यदल ने पाकिस्तान को इस लिस्ट में मनी लॉन्ड्रिंग और आतंकवाद को बढ़ावा देने के आरोप में डाला था। लेकिन अब इस संस्था का कहना है कि पाकिस्तान को उन्होंने चौतीस पॉइंट सुधारने को दिए थे जिसमें से सिर्फ चार बचे हैं जिसके बाद पाकिस्तान को इस लिस्ट से हटाया जा सकता है।

एक नज़र इधर भी:-  अपने तय समय से पहले पूरी हो सकती है तवांग की सुरंग, भारतीय सेना को मिलेगी मदद

फाइनेंशियल एक्शन टास्क फ़ोर्स ने तुर्की को दो साल से नोटिस दिया हुआ था, मनी लॉन्ड्रिंग और टेरर फंडिंग के चलते दिया गया था नोटिस। इस कार्रवाई के बाद तुर्की को गहरा झटका लग सकता है,जहाँ एक तरफ़ वो देश अपना टूरिज्म बढ़ा रही थी तो वहीं अब उसे ग्रे लिस्ट में डाल दिया गया है जिससे तुर्की को काफ़ी नुक़सान पहुँच सकता है।

वित्तीय कार्रवाई कार्यदल नये मॉरीशस और बोत्सवाना को अपने ग्रे लिस्ट से हटा दिया है और अफ़ग़ानिस्तान के ऊपर कड़ी नज़र बनाए रखा है।

FATF प्रमुख मारकस प्लेयर ने तुर्की के साथ साथ जॉर्डन और माली जैसे देशों को भी इस नई ग्रे लिस्ट में शामिल किया है।

आपको बता दें कि फाइनेंशियल एक्शन टास्क फ़ोर्स पेरिस की संस्थान है जिसके ग्रे लिस्ट में शामिल होते ही देशों को दुनिया भर के वित्तीय संस्थानों जैसे इंटरनेशनल मॉनेटरी फंड, वर्ल्ड बैंक का आदी से मदद मिलना बंद हो जाती है।