दिल्ली एनसीआर में बढ़ते डेंगू के मरीज, नहीं मिल रहे अस्पतालों में बेड

सरकारी और निजी अस्पतालों में बेड की कमी PC:- IndiaToday

सरकारी और निजी अस्पतालों में बेड की कमी PC:- IndiaToday

सरकारी और निजी अस्पतालों में बेड की कमी PC:- IndiaToday
सरकारी और निजी अस्पतालों में बेड की कमी PC:- IndiaToday

दिल्ली एनसीआर में लगातार दो हफ्तों से डेंगू के मरीजों में इजाफा हो रहा जिसके वजह से सरकारी और निजी अस्पतालों में बेड की कमी होने लगी है, यह सरकार के किए भी चिंताजनक मुसीबत बन गयी है।

दिल्ली सफदरजंग अस्पताल में डेंगू के मरीज जमीन पर लेट कर इलाज करवाने पर मजबूर हो गए हैं, डॉक्टर भी अस्पताल की फर्श पर बैठ कर मरीज़ों का इलाज कर रहे हैं और ये मंजर काफी भयावह है। अस्पताल में काम करने वाले कर्मचारी का कहना है कि अस्पताल में बेड मिलना बहुत ही मुश्किल है। जिसके प्लेटलेट्स 30,000 से नीचे हैं सिर्फ उनको ही बेड दिया जा रहा है।

एक नज़र इधर भी:- रेलवे सुविधा शुल्क पर फैसला ले रहा वापस, पढ़े क्या है पूरा मामला

दिल्ली के स्वामी दयानंद अस्पताल में भारतीय 220 मरीजों में 54 मरीज डेंगू के हैं ओ भर्ती डेंगू के मरीज़ों को देखते हुए अस्पताल में इमरजेंसी सर्जरी की सुविधा स्थगित कर दी गई है।

दिल्ली NCR में सरकारी और निजी अस्पतालों में मरीज़ों को ख़ासा दिक़्क़त का सामना कर रहा है,नोएडा के कैलाश अस्पताल ने अपने कॉन्फ्रेंस हॉल को इमरजेंसी रूम में तब्दील कर दिया है और वहाँ पर डेंगू के मरीज़ों को इलाज के लिए रखा जा रहा है।

डॉक्टरों का कहना है कि लगभग 50% मरीज़ डेंगू के आ रहे हैं और जो बाक़ी मरीज़ आ रहे हैं उनकी वजह से भी अस्पतालों में बेड ख़ाली नहीं हो पा रहे हैं। यह उम्मीद है कि ठंडी आते आते हैं डेंगू के मरीज़ काफ़ी कम हो जाएँगे।

डेंगू से अधिकतम बच्चे भी हो रहे हैं बीमार,नोएडा के PGI अस्पताल में तक़रीबन 240 बच्चे डेंगू बीमारी के चलते भर्ती हुए हैं जिसमें से अभी तक एक बच्चे की मौत की ख़बर आ रही है। एक रिपोर्ट के मुताबिक़ सिर्फ़ दिल्ली में ही 1006 डेंगू के मरीज़ इस साल मिले हैं जबकि नोएडा में 400 मरीज़ डेंगू की शिकायत लेकर अस्पताल आए थे।