बंगाल भवानीपुर में सुरक्षाकर्मियों ने दागी बंदूक, दिलीप घोष पर हमला, चुनाव टालने की रखी मांग

Image

image

भाजपा नेता दिलीप घोष

पश्चिम बंगाल में भाजपा नेता दिलीप घोष पर हमला किया गया है। सोमवार को चुनाव प्रचार के दिन हाई प्रोफाइल सीट भवानीपुर में इस हमले को अंजाम दिया गया। भाजपा ने तृणमूल के कार्यकर्ताओं पर इस हमले का आरोप लगाया है। इस घटना के बाद दिलीप घोष ने निर्वाचन आयोग से मांग की है कि राज्य के उपचुनाव को स्थगित किया जाए।

भाजपा ने प्रियंका टिबरेवाल को टीएमसी से ममता बनर्जी के सामने खड़ा किया है। भवानीपुर में सत्तारूढ़ दल तृणमूल कांग्रेस और भाजपा जनता में अपने अपने प्रचार को कर रहें हैं। बता दे कि बंगाल में 30 सितंबर को भवानीपुर के अलावा तीन सीटों पर भी विधानसभा उपचुनाव होने जा रहें हैं।

सुरक्षाकर्मी ही बने हमलावर

भाजपा और टीएमसी के कार्यकर्ता चुनाव प्रचार के अंतिम दिन आपस लड़ाई करने लगे। जिसके चलते दिलीप घोष ने आरोप लगाया है कि टीएमएसी के कार्यर्ताओं ने उनसे धक्कामुक्की की है। इस भिड़त के चलते एकदम से दिलीप घोष के सुरक्षाकर्मियों ने कार्यकताओं के ऊपर बंदूक तान दी। दोनों पक्षों के कार्यकर्ताओं को बातचीत के जरिए शांत कराने की कोशिश की गई। हालांकि, काफी समय बाद जाकर दोनों दलों को नियंत्रण में लाया गया।

भाजपा ने लगाए ममता पर यह आरोप

भाजपा नेता अग्निमित्रा पॉल ने आरोप लगाया है कि विपक्ष ने उनके कुछ कार्यकर्ताओं को घायल कर दिया है। वहीं दूसरी ओर सीएम ममता बनर्जी को असहिष्णु भी कहा। नेता ने अपील की है कि इस तरह गुंडों का प्रयोग करने वाले और मारपीट करने वाली पार्टी को वोट देने पहले जनता को भी आराम से सोचना चाहिए।

कुणाल घोष ने कहा कि लॉकेट चटर्जी ने भाजपा द्वारा किए अनुरोध को नजरअंदाज कर दिया है। भाजपा के जरिए लगाए गए आरोपों को भी बेवुनियाद कहा गया। राज्य सरकार ने इस भिड़ंत को लेकर राज्य निर्वाचन आयोग से जवाब की मांग की है।