उत्तराखंड चुनाव: हरीश रावत की मॉर्फ्ड फोटो को लेकर चुनाव आयोग ने बीजेपी को जारी किया नोटिस

रावत

उत्तराखंड में रावत की एक फोटो पर बीजेपी को मिला नोटिस, पढ़े क्या है पूरा मामला

रावत
उत्तराखंड में रावत की एक फोटो पर बीजेपी को मिला नोटिस, पढ़े क्या है पूरा मामला

चुनाव आयोग ने शनिवार को भारतीय जनता पार्टी की उत्तराखंड इकाई को एक ट्वीट पर नोटिस जारी किया जिसमें कथित तौर पर कांग्रेस नेता हरीश रावत को मुस्लिम मौलवी के रूप में दिखाया गया था। चुनाव आयोग ने कहा कि ट्वीट, जिसे अब हटा दिया गया है, आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन था। पार्टी से 24 घंटे के अंदर जवाब मांगा है।

उत्तराखंड बीजेपी के उपाध्यक्ष देवेंद्र भसीन ने कहा कि पार्टी की कानूनी टीम इस मामले को देखेगी। उन्होंने कहा, ‘तथ्यों को देखने के बाद हम अपना जवाब जारी करेंगे।’

चुनाव आयोग ने कहा कि भाजपा ने ऐसे बयान दिए हैं जो उत्तेजक प्रकृति के हैं और गंभीर रूप से भावनाओं को भड़का सकते हैं। चुनाव आयोग ने कहा था, “इससे कानून और व्यवस्था की स्थिति खराब हो सकती है जिससे चुनाव प्रक्रिया पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है।”

एक नज़र इधर भी:- लता मंगेशकर, जिनकी आवाज़ में ‘भारत का दिल धड़कता’, आज हमारे बीच नहीं रहे

कांग्रेस ने चुनाव आयोग से की शिकायत

कांग्रेस ने शुक्रवार को चुनाव आयोग से शिकायत की थी कि भाजपा की उत्तराखंड इकाई ने एक मॉर्फ्ड फोटो ट्वीट की थी जिसमें रावत को दाढ़ी और टोपी दिखाते हुए दिखाया गया था कि वह मुस्लिम है।

कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने चुनाव आयोग को बताया था कि भाजपा विभिन्न धर्मों के लोगों के बीच धार्मिक आधार पर वैमनस्य पैदा करने का प्रयास कर रही है। भाजपा का कहना है कि इस तरह की खराब राजनीती को रोकने के प्रयास से ही इस तरह से कदम उठाए जा रहे है।

कांग्रेस ने मांग की कि भाजपा के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की जाए। पीटीआई के अनुसार, इसने राज्य विधानसभा चुनाव खत्म होने तक भाजपा उत्तराखंड के ट्विटर हैंडल को निलंबित करने के लिए भी कहा जा चुका है। इसके अलावा उत्तराखंड में 10 मार्च को ही मतगणना कर ली जाएगी, वहीँ 14 फरवरी से मतदान की प्रक्रिया आरम्भ कर दी जाएगी।