दिल्ली सरकार ने यमुना से जहरीले पदार्थ हटाने के लिए 15 नावें की तैनात

इस समय नदियों से ज़हरीले झाग व पदार्थों को बाहर निकलना काफी जरूरी PC:- Reuters

इस समय नदियों से ज़हरीले झाग व पदार्थों को बाहर निकलना काफी जरूरी PC:- Reuters

इस समय नदियों से ज़हरीले झाग व पदार्थों को बाहर निकलना काफी जरूरी PC:- Reuters
इस समय नदियों से ज़हरीले झाग व पदार्थों को बाहर निकलना काफी जरूरी PC:- Reuters

छठ पूजा के दौरान श्रद्धालुओं के नदी में डुबकी लगाने की कड़ी आलोचना के बीच दिल्ली सरकार ने यमुना नदी में बने जहरीले झाग को हटाने के लिए नावों को तैनात किया है। दिल्ली सरकार के एक अधिकारी ने कहा, “दिल्ली सरकार ने बढ़ते प्रदूषण के कारण यमुना में बन रहे झाग को हटाने के लिए 15 नावों को तैनात किया है।”

छड़ पूजा के अवसर पर भक्त पवित्र नदियों में स्नान करते दिखाई देते है। सूर्य को जल चढ़ाकर उनकी पूजा की जाती है। इसलिए इस समय नदियों से ज़हरीले झाग व पदार्थों को बाहर निकलना काफी जरूरी हो गया है। उन्होंने आगे कहा कि सिंचाई और बाढ़ नियंत्रण विभाग, राजस्व विभाग और दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण समिति ने संयुक्त रूप से यह निर्णय लिया है। 

एक नज़र इधर भी:- नई दिल्ली की वायु गुणवत्ता ‘गंभीर’ से ‘बेहद खराब’, हल्के कोहरे की संभावना

अधिकारियों ने बताया कि दो नावों के बीच एक मजबूत कपड़ा बांधकर उसके ज़हरीले झाग को किनारे तक लाया जाएगा। यमुना नदी पर तैरता खतरनाक झाग अमोनिया के स्तर में वृद्धि और उच्च फॉस्फेट सामग्री का परिणाम है जो नदी में डिटर्जेंट सहित औद्योगिक प्रदूषकों के निर्वहन के कारण होता है।

वरुण गुलाटी नाम के एक सामाजिक कार्यकर्ता ने कहा है कि झाग नदी के किनारे स्थापित की गई अवैध जींस बनाने वाली इकाइयों द्वारा डेनिम को रंगने के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले रासायनिक कचरे का परिणाम है।