कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी ने उत्तर प्रदेश पुलिस ने आगरा जाने से रोका, जानिए पूरा मामला

कांग्रेस पार्टी UP चुनावों में 40 प्रतिशत महिलाओं को टिकट देगी

कांग्रेस पार्टी UP चुनावों में 40 प्रतिशत महिलाओं को टिकट देगी

कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी
कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी

प्रियंका गांधी वाड्रा उत्तर प्रदेश चुनावों को देखते हुए उत्तर प्रदेश की राजनीति आज कल ख़ासा सक्रिय हैं, कल उन्होंने लखनऊ में प्रेसवार्ता की और कांग्रेसकीतरफ़ 40 प्रतिशत औरतों को उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों में टिकट देने की घोषणा की। लेकिन प्रियंका गांधी से जब ये पूछा गया कि क्या वो उत्तर प्रदेश चुनाव लड़ेंगे तो उन्होंने इस पर कोई सीधा जवाब नहीं दिया और कहा कि इसका निर्णय पार्टी लेगी और मैं इसका उत्तर बाद में दूंगी।

आज प्रियंका गांधी लखनऊ से आगरा के लिए रवाना हो रही थी जब उनको लखनऊ पुलिस ने लखनऊ आगरा एक्सप्रेस वे पर रोका और आगरा जाने से मनाकरदिया।पुलिस ने उनको हिरासत में ले लिया है, वहाँ मौजूद मीडिया कर्मियों से प्रियंका ने बोला कि मुझे क्यों उत्तर प्रदेश में हर जगह पुलिस के द्वारा रोक दिया जाता है, क्या मैं सिर्फ़ रेस्टोरेंट में बैठी रहूँ? योगी आदित्यनाथ सरकार राजनीति कर रही है मुझे बस आगरा जा रहा है और पीड़ित परिवार से मिलना है।
दरअसल पूरा मामला यह है कि प्रियंका गांधी आगरा में पुलिस कस्टडी के दौरान मारे गए एक व्यक्ति के घर वालों से मिलना चाहती हैं और इसीलिए वो लखनऊ से आगरा जा रही थी जिसके तहत पुलिस ने उनको रोक लिया।

पुलिस कस्टडी में मारे गए व्यक्ति का नाम अरुण वाल्मीकि था जिस पर आरोप था कि उसने जगदीशपुर पुलिस थाने से 25 लाख रुपया चोरी किए थे और पूछताछ के वक़्त उसकी तबियत बिगड़ गई जिसके बाद उसकी मौत हो गई। आगरा के SSP ने बयान दिया था कि अरुण से पुलिस पूछताछ कर रही थी तब अचानक उनकी तबीयत बिगड़ गई, मंगलवार को उनको अस्पताल में भर्ती किया गया जिसके बाद वहाँ पर ही उसकी मौत हो गई।
अरुण वाल्मिकी पुलिस थाने के मालखाने में कर्मचारी था और उस पर यह आरोप था कि उसने वहाँ रखे 25 लाख रुपये चोरी कर लिए थे।

कांग्रेस के महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा को इससे पहले लखीमपुर जाने से भी रोका गया था, वो लखीमपुर कार हादसे में मारे गए किसानों के परिवारों से मिलने जा रही थी तब पुलिस ने उन्हें रोका था लेकिन अगले ही दिन उनको परवानगी मिल गई थी और वो पीड़ित परिवार से मिल पाई थी। उत्तर प्रदेश पुलिस का यह रवैया देखकर प्रियंका गांधी ख़फ़ा दिखी और कहा कि मुझे बस पीड़ित परिवार से मिलना है तो इसमें किसी को क्या दिक़्क़त हो रही है और क्या मैं लखनऊ के गेस्ट हाउस में बंद होकर रहूँ?