छत्तीसगढ़ में दिखा लखीमपुर जैसा दर्दनाक मंजर, तेज रफ्तार गाड़ी ने कुचला कई लोगों को

तेज रफ्तार कार भीड़ में जमा हुए लोगों को रौंदती हुई निकली PC:- News24

तेज रफ्तार कार भीड़ में जमा हुए लोगों को रौंदती हुई निकली PC:- News24

तेज रफ्तार कार भीड़ में जमा हुए लोगों को रौंदती हुई निकली PC:- News24
तेज रफ्तार कार भीड़ में जमा हुए लोगों को रौंदती हुई निकली PC:- News24

कल दोपहर सोशल मीडिया पर एक वीडियो आग की तरह फैल रहा था, उस वीडियो में एक तेज रफ्तार कार भीड़ में जमा हुए लोगों को रौंदती हुई निकल रही थी। यह घटना छत्तीसगढ़ के जशपुर की थी। दशहरा मना रहे लोगों को वो गाड़ी कुचलती हुई निकल गयी।

आपको बता दे की पुलिस की तफ्तीश में पता चला की उस गाड़ी में गांजा भरा था जो पुलिस चेकपोस्ट को तोड़ कर अपना बचाव करने के लिए भागती चली गयी और आगे चल रही भीड़ को भी रौंद दिया। इस घटना में एक शख़्स जिसका नाम गौरव अग्रवाल है उस की मृत्यु हुई जो 20 साल का था और 20 लोग घायल हुए जिसमें चार की हालत गंभीर है।

गाड़ी में बैठे दो लोगों की जमकर हुई पिटाई

अग़ल बग़ल वालों ने जब ये मंज़र देखा वो उस गाड़ी का मोटरसाइकिल से पीछा करने लगे और करीब 15 किलोमीटर बाद जाकर उस गाड़ी को पकड़ पाए, गाड़ी मिलते ही उसे आग के हवाले कर दिया साथ ही साथ गाड़ी में बैठे दो लोगों की जमकर पिटाई की फिर पुलिस हिरासत में दे दिया।

वहाँ के लोकल लोग और मृतक के परिवार वालों ने सरकार से एक करोड़ का मुआवजा मांग रहे हैं वहीं छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इस घटना की जांच करने को कहा है और दोषियों को कड़ी सजा मिलने की भी बात कही है,मुख्यमंत्री ने कहा कि पुलिस अपना काम कर रही है और तुरंत ही दोषियों को पकड़ लिया गया था।

सिंगरौली मध्य प्रदेश के रहने वाले हैं दोनों आरोपी

इस घटना पर छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह ने दुख जताया और बघेल सरकार से मृतक को एक करोड़ का मुआवजा देने की मांग की। वहीं SP विजय अग्रवाल ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि मूर्ति विसर्जन के दौरान भीड़ के साथ कोई पुलिसवाला मौजूद नहीं था इसलिए एक पुलिस को सस्पेंड भी किया गया है। घटना के दोनों आरोपी सिंगरौली मध्य प्रदेश के रहने वाले हैं।