लखीमपुर हिंसा: आशीष मिश्रा को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में

शनिवार की सुबह को आशीष मिश्र पुलिस के पास पहुंचे जहां उनसे घंटे तक पूछताछ चली। आरोपी का कहना है की वो घटना के वक्त वहाँ मौजूद भी नहीं थे। घंटों चली पूछताछ के बाद आशीष मिश्रा को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजा गया

शनिवार की सुबह को आशीष मिश्र पुलिस के पास पहुंचे जहां उनसे घंटे तक पूछताछ चली। आरोपी का कहना है की वो घटना के वक्त वहाँ मौजूद भी नहीं थे। घंटों चली पूछताछ के बाद आशीष मिश्रा को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजा गया

शनिवार की सुबह को आशीष मिश्र पुलिस के पास पहुंचे जहां उनसे घंटे तक पूछताछ चली। आरोपी का कहना है की वो घटना के वक्त वहाँ मौजूद भी नहीं थे। घंटों चली पूछताछ के बाद आशीष मिश्रा को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजा गया
शनिवार की सुबह को आशीष मिश्र पुलिस के पास पहुंचे जहां उनसे घंटे तक पूछताछ चली। आरोपी का कहना है की वो घटना के वक्त वहाँ मौजूद भी नहीं थे। घंटों चली पूछताछ के बाद आशीष मिश्रा को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजा गया

3 अक्टूबर को उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में मचे उपद्रव में 8 लोगों की मौत हो गयी, जिसमें 4 आंदोलन कर रहे किसान थे। मंत्री अजय मिश्र के बेटे आशीष मिश्रा पर आरोप लगे थे की वो ही कार चला रहे थे जिसने आंदोलन कर रहे किसानों को रौंदा। इस घटना के बाद हिंसा बढ़ती गयी और एक पत्रकार समेत तीन भाजपा कार्यकर्ताओं की भी मौत हो गयी।

शनिवार की सुबह को आशीष मिश्र पुलिस के पास पहुंचे जहां उनसे घंटे तक पूछताछ चली। आरोपी का कहना है की वो घटना के वक्त वहाँ मौजूद भी नहीं थे। घंटों चली पूछताछ के बाद आशीष मिश्रा को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजा गया।

लखीमपुर घटना पर इंसाफ माँगने के लिए भाजपा के विपक्षी दल भी ज़ोरों शोरों से लगे हैं। हाल ही में प्रियंका गांधी और राहुल गांधी पीड़ित परिवार से मिले उसके बाद समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव भी पीड़ित परिवार से मिलने के लिए लखीमपुर गए।